Prime Punjab Times

Latest news
ਨਸੀਲੇ ਪਾਊਡਰ ਸਮੇਤ ਇੱਕ ਨੌਜਵਾਨ ਆਇਆ ਪੁਲਿਸ ਅੜਿੱਕੇ ਪਿੰਡ ਬਾਹਟੀਵਾਲ ਵਿਖੇ ਡਾਕਟਰਾਂ ਨੇ ਕਿਸਾਨਾਂ ਨੂੰ ਖੇਤੀਬਾੜੀ ਅਤੇ ਪਸ਼ੂਆਂ ਨੂੰ ਲੱਗਣ ਵਾਲੀਆਂ ਬਿਮਾਰੀਆਂ ਦੀ ਰੋਕਥਾਮ ਸੰਬ... कैबिनेट मंत्री जिंपा ने जनता दरबार में सुनी लोगों की शिकायतें ਮਾਂ ਦਾ ਦੁੱਧ ਬੱਚੇ ਲਈ ਵਰਦਾਨ ਸਾਬਤ ਹੁੰਦਾ ਹੈ : ਡਾ.ਹਰਜੀਤ ਸਿੰਘ ਜਨਤਕ ਸ਼ਿਕਾਇਤ ਨਿਵਾਰਣ ਕੈਂਪ ਦੌਰਾਨ ਵਿਧਾਇਕ ਘੁੰਮਣ ਤੇ ਏ.ਡੀ.ਸੀ ਨੇ ਸੁਣੀਆਂ ਲੋਕਾਂ ਦੀਆਂ ਸ਼ਿਕਾਇਤਾਂ ਸ਼੍ਰੀ ਭੈਰੋ ਨਾਥ ਜੀ ਦੀ ਮੂਰਤੀ ਸਥਾਪਨਾ 21 ਜੁਲਾਈ ਨੂੰ ਚਿੰਤਪੁਰਨੀ ਮੇਲੇ ਨੂੰ ਸੁਚਾਰੂ ਬਣਾਉਣ ’ਚ ਲੰਗਰ ਕਮੇਟੀਆਂ ਤੇ ਸਮਾਜਿਕ ਸੰਗਠਨ ਕਰਨ ਜ਼ਿਲ੍ਹਾ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ ਨੂੰ ਸਹਿਯੋਗ : ਬ੍ਰਮ... ਚੋਰੀ ਦੇ ਮੋਬਾਇਲ ਫੋਨਾਂ ਤੇ ਚੋਰੀਸ਼ੁਦਾ ਮੋਟਰਸਾਈਕਲ ਸਮੇਤ ਦੋ ਨੌਜਵਾਨ ਆਏ ਪੁਲਿਸ ਅੜਿੱਕੇ ਹਰ ਖੇਤਰ ਵਿਚ ਧੀਆਂ ਰੁਸਨਾਉਂਦੀਆਂ ਨੇ ਮਾਪਿਆਂ ਦਾ ਨਾਂ :- ਡਾ.ਹਰਜੀਤ ਸਿੰਘ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਵਲੋਂ “ਵਾਤਾਵਰਣ ਸੁਰੱਖਿਆ ਮੁਹਿੰਮ” ਚਲਾਈ

Home

You are currently viewing UPDATED.. कांग्रेस विधायक फतेहजंग और बलविंदर लाडी कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल

UPDATED.. कांग्रेस विधायक फतेहजंग और बलविंदर लाडी कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल

कुछ दिन पहले सिद्धू ने बाजवा के हक में की थी रैली

प्रधानमंत्री नरिन्द मोदी की विकासशील नीतियों ने प्रभावित किया-फतेहजंग बाजवा, बलविंदर लाडी

 चंडीगढ़ / बटाला , 28 दिसंबर (संजीव) :  पंजाब कांग्रेस में भाजपा ने बड़ी सेंध लगा दी है। गुरदासपुर के कादियां से कांग्रेस विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा और श्री हरगोबिंदपुर से विधायक बलविंदर सिंह लाडी भाजपा में शामिल हो गए हैं। उनके साथ क्रिकेटर दिनेश मोंगिया, संगरूर से पूर्व सांसद राजदेव सिंह खालसा और पूर्व अकाली विधायक गुरतेज सिंह घुडिय़ाना भी शामिल हुए है।
सबका दिल्ली में भाजपा के पंजाब चुनाव इंचार्ज गजेंद्र शेखावत ने स्वागत किया है। दिलचस्प बात यह है कि कुछ दिन पहले ही पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू ने फतेहजंग के हक में रैली की थी। इसमें फतेहजंग को जिताने की अपील की गई थी। भाजपा में शामिल होने वालों में फतेहजंग बाजवा चर्चित चेहरा हैं, कयोंकि वह पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सांसद प्रताप सिंह बाजवा के भाई हैं। फतेहजंग बाजवा कादियां से दूसरी बार चुनाव लडऩे के दावेदार थे, लेकिन अचानक उनके बड़े भाई प्रताप बाजवा ने वहां से दावेदारी ठोक दी। प्रताप बाजवा ने यह भी कहा था कि उनकी हाईकमान से बात हो गई है। इसलिए वह तो चुनाव लड़ेंगे। भाई बाजवा के बारे में प्रताप ने कहा कि वह कहां से लड़ेंगे, इसके बारे में परमात्मा जाने। जिसके बाद फतेहजंग ने कांग्रेस छोडऩे की तैयारी कर ली। फतेहजंग बाजवा कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी रहे हैं। उनको पंजाब के माझा इलाके का कद्दावर नेता माना जाता है। हालांकि, पिछले कुछ दिनों से पंजाब सरकार में मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा के साथ उनका टकराव चल रहा था। वह डिप्टी ष्टरू सुखजिंदर रंधावा से भी नाराज थे। असल में जब फतेहजंग बाजवा के बेटे को कैप्टन सरकार में सरकारी नौकरी मिली तो रंधावा ने विरोध किया। हालांकि, कैप्टन के हटने के बाद रंधावा के दामाद तरुणवीर लहल को एडिशनल एडवोकेट जनरल बना दिया गया।
भाजपा में शामिल होने के बाद फतेहजंग सिंह बाजवा व बलविंदर सिहं लाडी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरिन्द मोदी जी ने जिस तरह से देश को विश्वस्तर पर विकासशील व उन्नत देशों में शुमार करवाया है इससे प्रभावित होकर उन्होंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया है। भाजपा की नीतियों को घर घर तक पहुंचाने के लिए दिन रात यत्नशील रहेंगे।

error: copy content is like crime its probhihated