Prime Punjab Times

Latest news
ਕੈਬਨਿਟ ਮੰਤਰੀ ਜਿੰਪਾ ਨੇ ਸ੍ਰੀ ਰਾਮ ਦਰਬਾਰ ਪ੍ਰਾਣ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਾ ਸਮਾਰੋਹ ’ਚ ਸ਼ਿਰਕਤ ਕਰਕੇ ਲਿਆ ਆਸ਼ੀਰਵਾਦ ਡੀ.ਏ.ਵੀ ਪਬਲਿਕ ਸਕੂਲ ਗੜਦੀਵਾਲਾ ਵਿਖੇ ਕਵਿਜ਼ ਪ੍ਰਤੀਯੋਗਤਾ ਕਰਵਾਈ ਗਈ ਪੀ.ਐਚ.ਸੀ ਭੂੰਗਾ ਵਿਖੇ ਵਿਸ਼ਵ ਅਬਾਦੀ ਸਥਿਰਤਾ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਪਖਵਾੜਾ ਮਨਾਇਆ पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री अमन अरोड़ा और MLA रमन अरोड़ा ने किए डिजिटल मीडिया एसोसिएशन (डीएमए) के आ... ਦਿ ਵਰਕਿੰਗ ਰਿਪੋਰਟਰਜ਼ ਐਸੋਸੀਏਸ਼ਨ (ਰਜਿ:) ਪੰਜਾਬ, ਇੰਡੀਆ” ਦੀ ਅਹਿਮ ਮੀਟਿੰਗ ਹੋਈ ਮਾਤਾ ਚਿੰਤਪੁਰਨੀ ਦੇ ਮੇਲੇ ਦੌਰਾਨ ਨਾ ਵਰਤਿਆ ਜਾਵੇ ਸਿੰਗਲ ਯੂਜ਼ ਪਲਾਸਟਿਕ : ਡਾ.ਅਮਨਦੀਪ ਕੌਰ ਡਿਪਟੀ ਸਪੀਕਰ ਰੌੜੀ ਨੇ 'ਆਪ ਦੀ ਸਰਕਾਰ ਆਪ ਦੀ ਦੁਆਰ' ਤਹਿਤ ਲਗਾਏ ਕੈਂਪ ਦਾ ਲਿਆ ਜਾਇਜ਼ਾ ਸੋਸਾਇਟੀ ਨੇ ਮਹੀਨਾਵਾਰ ਸਮਾਗਮ ਦੌਰਾਨ 300 ਲੋੜਵੰਦ ਪਰਿਵਾਰਾਂ ਨੂੰ ਵੰਡਿਆ ਰਾਸ਼ਣ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਵਿੱਚ ਵਾਤਾਵਰਣ ਦਾ ਅਮੁੱਲ ਯੋਗਦਾਨ :- ਡਾ. ਹਰਜੀਤ ਸਿੰਘ ਸ਼ਿਵ ਦੁਰਗਾ ਮੰਦਿਰ ਕਮੇਟੀ ਦੀ ਮੀਟਿੰਗ ਵਿੱਚ 17 ਜੁਲਾਈ ਨੂੰ ਮੰਦਿਰ ਦਾ ਸਥਾਪਨਾ ਦਿਵਸ ਧੂਮਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਉਣ ਦਾ ਕੀਤਾ ਫੈਸ...

Home

You are currently viewing विश्वास,भक्ति,आनंन्द का प्रतीक -74वें वार्षिक निरंकारी संत समागम……

विश्वास,भक्ति,आनंन्द का प्रतीक -74वें वार्षिक निरंकारी संत समागम……

विश्वास,भक्ति,आनंन्द का प्रतीक -74वें वार्षिक निरंकारी संत समागम का कल से होगा शुभारंभ
4.45 पर बैवसाइट पर लाइव होगा शुरु
समागम को लेकर श्रद्धालुओं में भारी उत्साह

होशियारपुर , 26 नवम्बर (चौधरी ): सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज की छत्रछाया में होने वाला 74वां वार्षिक निरंकारी संत समागम जो कि निरंकारी अयाध्यत्मिक स्थल समालखा में कल से शुरु होगा। इसकी सारी तैयारियां मुकम्मल कर ली गई है। व्रचुअल रूप में आयोजित निरंकारी संत समागम 27 नवम्बर की शाम को 4.45 बजे साधना चैनल व मिशन के बैवसाइट पर यह समागम शुरु हो जाएगा। सभी तैयारियां सरकार द्वारा जारी किये गये कोविड-19 के निदेर्शों को ध्यान में रखकर ही की जा रही है। तीन दिवसीय समागम 27, 28 एवं 29 नवम्बर 2021 को निर्धारित की गईं है। इस वर्ष के निरंकारी संत समागम का शीर्षक -विश्वास, भक्ति, आनंन्द विषय पर आधारित है जिसमें विश्वभर से वक्ता, गीतकार तथा कविजन अपनी प्रेरक एंव भक्तिमय प्रस्तुति व्यक्त करेंगे। विश्वास, भक्ति और आनंद आध्यात्मिक जागृति का एक ऐसा अनुपम सूत्र है जिस पर चलकर हम इस परमात्मा का न केवल साक्षात्कार प्राप्त कर सकते है अपितु इससे इकमिक भी हो सकते है। समागम के तीनों दिन सत्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज अपने पावन प्रवचनों द्वारा मानवमात्र को आशीर्वाद प्रदान करेंगे। समागम के पहले दिन का कार्यक्रम 4.45 से लेकर रात नौ बजे तक होगा। समागम के दूसरे दिन सुबह 12 बजे से लेकर 2 बजे तक सेवादल की रैली होगा जबकि सत्संग का कार्यक्रम शाम 5 बजे से लेकर 9.30 बजे तक का होगा। समागम के तीसरा व अंतिम दिन का कार्यक्रम भी शाम 5 बजे से लेकर 9.30 बजे तक होगा। इस समागम को लेकर श्रद्धालुओं में बहुत उत्साह है।

error: copy content is like crime its probhihated